RSS

Category Archives: RandomActOfWriting – Hindi

प्यार ढूंढना मना है!

हम चले अपने चाहत लेकर
इस ओर और उस ओर
हर तरफ नज़र आया जीती जागती
खुशहाली का शोर

मन मे है पहाड़ जैसा प्यार
उस शख्स पे करदू
सब कुछ फूलों का इज़हार

दूर से देखा था उसे
सौ गज दूर
पर लग-लपेट उस पे
दस्तक दे रहा था जैसे
वो आ रहा था मेरी ओर

सोचता रहा के
आगे चालू के पीछे मुड़ूँ
सोचने की बस्ती मे
निकल गयी पकड़ने वाली रेल

अब मै रुका एक जगह
यह प्यार कम इंसान ज्यादा
हाथ उठी उसे पुकार ने
पर किसीने बोला
ठहर जा आशिक़
इंसानो के दुनिया मे
प्यार ढूंढना मना है !

Advertisements
 
Leave a comment

Posted by on October 6, 2018 in RandomActOfWriting - Hindi

 

प्रेम पत्र!

हम ने निकाली कलम
सनम की दासतायें लिखने

जब सियाही कलम से करने लगी मोहब्बत
तो क्या किस्सा क्या कहानी

लब्जों की चाहत बरसने लगा कागज़ पर
ख़याल कर रहे थे टिप टिप बूंदों का नाच

कागज़, कलम, सियाही और हम
भीगकर मौज मस्ती करने लगे

कागज़ बनी प्रेम पत्र
हम ने लगाई उसे गले
अब माशूका की बारी है! 🙂

 
Leave a comment

Posted by on September 8, 2018 in RandomActOfWriting - Hindi

 

हसीना

हसींन निगाहों से बच के रहना
अगर गिर पड़े तो दिल गायब
अगर नज़र अंदाज़ की तो रख लो ज़ख्मों पे मलहम!

 
Leave a comment

Posted by on September 8, 2018 in RandomActOfWriting - Hindi

 

ज़ालिमा!

ज़ालिमा की सुरमे का असर
जल परी हवा में उड़ने जैसी
पानी मे रहकर वो हो गयी बेचैन
हवा में हो तो हम हो गये बेताब

जब वो मुस्कुरायी आँखें हुयी छोटी
बस काजल की बारीख सी रेखा नज़र आई
वो बस तीर जैसा मेरे दिल की ओर दौड़ने लगी

जब सजिदों की बारिश में आँखे हुयी छोटी
आंसुओं का ढेर काजल की रेखा पार करते नज़र आयी
अब सिर्फ तीर ही नहीं ज्वालामुखी भी साथ आई

हम तन्हाई में उन्हें याद करते करते जलते रहे
हम उनके सात रहकर भी मोम की तरह पिगलते रहे
सब अपने पराये गले से शराब कि तरह उतर ते रहे

दिल में थी हल्की सी चिराग
अगर तुम आयी तो वो भुझेगी
हम तुम्हारे चमक का सहारा लेलेंगे

अगर आप न आयी तो वो भडेगा
हम कलम कागज़ लेलेंगे
और आप की यादों का माला
प्यार के लब्ज़ों से जुड़ते रहेंगे !

 
Leave a comment

Posted by on September 8, 2018 in RandomActOfWriting - Hindi

 

सोच !

ज़रूरते , ख्वाइशे , आशाएं हुयी बढ़ी बढ़ी
रंजिशे कोशिशे , तन्हाईयाँ कश्ती से सिल पड़ी
अगर कश्ती डूबेगा तो हम होगये सब से पर
अगर हम डूबतों कश्ती गयी दरिया के उस पार ! ~ Savvy

 
Leave a comment

Posted by on September 1, 2018 in RandomActOfWriting - Hindi

 

यारा!

परछाई चल रही थी मेरे बाजू
परछाई चल रही थी मेरे बाजू
सोचा हुज़ूर है साथ मेरे
कब लेना है साथ फेरे

जब आप थे मेरे साथ
परछाई ठहरी गज दूर पीछे
मोहब्बत मेरी हिफाज़त
हम लिए आप का हिमायत

जब आप न थे मेरे पास
परछाई ठहरी गज दूर, पर मेरे आगे
नाराज़गी का वक़्त था बहुत भारी
गलती सुधार ने को पडी थी ज़िन्दगी सारी

बेवफाई ने की खुद्दारी की दोस्ती
अब हम क्या बताये
शराब की बोतल तो इतर जैसी
आसूं का लहर नशीली इलाज़ जैसी

बारीख़ी से आजमाया तो
ये तै हुआ के
आप का ख़ुशी का खिला
हमारे ग़म के बुनियाद से बुलंद है

आंधी या तूफ़ान आये
ऊपरी का इमारत तर तराये
पर नींव तो सबल है
हमारी मोहब्बत की तरह
हमारी चाहत की तरह
हमारी उल्फत की तरह

यारा, प्यार ऐसे करना के
याराना पे आंच न आये
याराना ऐसे करना के
फक्र से प्यारा छा जाए !

English Translation:

Shadow was walking along my side
Shadow was walking along my side
Thought my beloved is with me
Was thinking of taking making her life partner (as I walk)

When she was with me
Shadow was behind me one foot far
I was secured in her love
I was taking care of her

When she was not with me
Shadow was ahead of me
Her silence was a tough time
There was entire life left to correct the mistakes

Broken promises have befriended selfishness
What should I say
Alcohol looks like perfume to me
Tears get me high

I realized that your happiness castle is
built with a strong foundation of my sorrows
Storms may shake the outside building but
the foundation is unshakable
Just like my love for you
Just like my affection for you
Just like my feelings for you

Oh my beloved, LOVE such a way that
friendship is flawless
Do friendship in such a way that
LOVE flourishes with pride! ~ Savvy

 
Leave a comment

Posted by on August 15, 2018 in RandomActOfWriting - Hindi

 

पियारा!

हम तो बेरंग हो गये
लेकर तुम्हारा नाम का दाग!
 
जब पियारा बने
मनमुटाव तो मै लाल पीला
जब वो मनमौझी तो
मै हरे रंग का प्याला !
 
होली तो खेला तेरे प्यार में बावली
पर कालिमा को करदी नज़रंदाज़
हम ने सोचा हम रंग में डूबते रहे
पर हम ही डूबगये ! ~ Savvy
 
Translation:
 
I became colorless
by taking your name!
 
When beloved is miffed
I turned Red
When she is happy
I turned a bowl of Green!
 
I played Holi (colors) being in love with you, my beloved
but ignored black color
I was thinking, I am drenched in colors
But didn’t realize I drowned myself! ~ Savvy
 
Leave a comment

Posted by on August 14, 2018 in RandomActOfWriting - Hindi